Bel बेल फल Wood fruit

संदर्भ में :  प्राचीन काल में ऋषि मुनि जब खाना और पीना त्याग देते थे योगाभ्यास या समाधि या पूजा पाठ करने के संदर्भ में तो बेल पत्र या बेल फल का सहारा लेते थे क्योकि बेल पत्र या बेल फल खाने से मल मूत्र कम निकलता है और शरीर की इन्द्रिया और दिमाग एकत्रित रहता है तथा आत्मा की शक्ति जाग्रत होती है आयुर्वेद में कच्चा फल अधिक गुणकारी माना जाता है बेल फल भारत का बहुत ही पुराना फल है अति प्राचीन फल मन जाता है क्योकि वेदो में पुराणों में ग्रंथो में आदि में भी बेल फल का वर्णन हुवा है 



आधुनिक वैज्ञानिक ने सिद्ध किया है बेल फल के गुद्दे में जो रसायनिक तत्व पाए जाते है इसका असर आंतो में खून में बहुत  ही लाभकारी   सिद्ध हुवा है 

डॉ. ग्रीन : बेल फल का शरबत व्यवहार के लिए और अजीर्ण रोग शीघ्र शांत करता है अर्थार्त जिन लोगो को गुस्सा अधिक आता हो उनके लिए बेल फल का जूस या सरबत बहुत ही फायदेमंद है 

डॉ. राम सुशील :  बेल फल सफ़ेद व् लाल आव में तथा अग्निमांध के रोगियों लिए जिन्हे कभी कब्ज या कभी अतिसार रहता हो उनके लिए बेल फल बहुत ही लाभकारी है 

डॉ. डीमक :  बेल का फल बहुत ही शक्तिसाली  और खून को भी साफ करता है और जब खून साफ होगा तो हमारा शरीर अनेक बीमारियों से बचा रहेगा 

चरक :    के अनुशार कफ और वात को पूरी तरह कंट्रोल करता है 

डॉ. घोस :  पके बेल  गुद्दा मृदुरेचक अत:जीर्ण में उपयोगी है 



बेल फल का खाना या बेल फल का सरबत बहुत ही फायदेमंद है वात पित और कफ को तीनो पर पूरी तरह काम करता है और शरीर वैट पित और कफ पर ही पूरा शरीर निर्भर है पित शांत रहेगा तो सर दर्द जी मचलाना पेट में जलन आदि बीमारियों से बचे रहेंगे खून साफ करता है और खून बनता भी है और खून साफ होगा और नया खून बनेगा तो शरीर पूरी तरह सेफ रहेगा जैसे बालो का झड़ना आँखो की रौशनी हार्ट अटेक आट्रीज ब्लॉकिंग जोड़ो  दर्द आदि स्थान भाव होने के कारण अधिक नहीं लिख सकते लेकिन बेल फल कुशल वयवहार के लिए भी बहुत ही फायदेमंद है सभी वैज्ञानिको ने अपने अपने मत से से बेल फल के बारे में बताने की कोशिश की और बेल को जीवन के लिए बहुत ही उचित फल बताया है 



बेल फल को आप  अनेक प्रकार  से प्रयोग कर  सकते है 

बेल को आप कच्चा पका सूखा प्रयोग क्र सकते है बेल  की छाल फल पत्ते सभी बहुत उपयोगी है और फायदेमंद है
 
बहुमूत्र :
के लिए बेल में शहद मिलकर खाने से बहुमूत्र के रोग दूर होते है बेल के जूस में शहद मिलकर पिने से बहुमूत्र के सभी रोगो आराम मिलता है 

गुल्म वात :
  पके बेल फल के  गुद्दे में गुड़ मिलाकर खाने से वात रोग में बहुत ही लाभकारी है गुल्म वात के लिए आप बेल फल के गुद्दे में गुड़ मिलकर खाये 

मख्खी मच्छर भगाने के लिए :
अगर आग में बेल के छिलके जलाये जाये यानि  के छिलके आग में डाल  दे  और धुवा कर  दे बेल के छिलको के धुएं  मच्छर मख्खी बिलकुल भाग जायगे 

बेल की जड़ छाल : बेल की जड़ की छाल का काढ़ा बना ले और उसको पिए इसके पिने से ह्रदय  धड़कन अनिद्रा पागलपन विषम ज्वर प्रश्तुति ज्वर आदि में बहुत ही फायदेमंद है 

मधुमेह :
मधुमेह  के लिए बेल के पत्ते काली मिर्च के साथ खाने से मधुमेह के लिए बहुत ही फायदेमंद है  पांच पत्ते रोज खा  मधुमेह के रोगियों   लाभकारी है 

कब्ज : 
कब्ज के पके बेल का गुद्दा खाये सरबत बनाकर पि ले और अगर पक्का बेल न मिले तो कच्चा बेल को उबालकर खाये बस ये  मान लो की बेल फल आपके पेट के अंदर जाना चाहिए जैसे ही बेल फल अंदर जायगा तो पेट में कब्ज नहीं रहेगा 

कच्चे बेल का गुद्दा :
ये पेचिस अतिसार  दस्त में बहुत ही लाभकारी है और सूखे बेल का पाउडर भी ले  सकते  है कच्चे बेल को सुखाकर  रख ले और पीस   जरूरत पड़े  एक चम्मच  पानी  पेचिस और दस्तो बहुत  ही लाभकारी है 



चेतावनी :
एक समय में बेल फल  अधिक  लेना चाहिए  इसमें कार्बोहाइड्रेड  अधिक मात्रा में पाया जाता है आप इसे रोटी  जगह भी खा सकते है ,इसका सरबत पतला नहीं पीना चाहिए सरबत गाहड़ा ही बनाकर पिए बेल फल पतले दस्त को मोटा करता है और मोठे दस्त को पतला करता है जिनको तव्चा में कोई दिक्कत हो उसे बेल फल प्रयोग नहीं करना चाहिए 


GOOD LUCK 

3 thoughts on “Bel बेल फल Wood fruit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *